Banking Guru » नेट बैंकिंग » इंटरनेट बैंकिंग के समय कौन कौन सी सावधानियां रखनी चाहिए

इंटरनेट बैंकिंग के समय कौन कौन सी सावधानियां रखनी चाहिए

इंटरनेट बैंकिंग के समय कौन कौन सी सावधानियां रखनी चाहिए : अगर आपका किसी भी बैंक में अकाउंट है और आप अपने बैंक की नेट बैंकिंग सुविधा का उपयोग करते है, तब नेट बैंकिंग करते समय क्या- क्या सावधानी रखनी चाहिए इसकी जानकारी होना बहुत आवश्यक है। क्योंकि बिना सही जानकारी के आप नेट बैंकिंग में धोखाधड़ी का शिकार हो सकते है। इससे आपकी मेहनत की कमाई एक झटके में खाली हो सकते है।

आजकल लगभग सभी बैंकों में इंटरनेट बैंकिंग सुविधा देना शुरू हो चुके है। इस नेट बैंकिंग का जितना लाभ है, अगर सही से जानकारी नहीं हो तब ये नुकसान भी हो सकता है। बैंक भी अपने कस्टमर्स को सुरक्षित नेट बैंकिंग के लिए सावधानियाँ बताती रहती है। यहाँ हमने सुरक्षित इंटरनेट बैंकिंग के लिए रखने वाली 8 सावधनियां के बारे में बता रहे है। प्लीज आप एक बार इसे ध्यान से जरुर पढ़ें।

precautions-for-secure-internet-banking

सुरक्षित इंटरनेट बैंकिंग के लिए ये 8 सावधानियां रखनी चाहिए

1. बैंक की ऑफिसियल वेबसाइट URL टाइप करें

इंटरनेट बैंकिंग के समय सबसे पहली सावधानी रखने वाली बात ये है कि हमेशा अपने बैंक की ऑफिसियल वेबसाइट को टाइप करके ही ओपन करें। जैसे – स्टेट बैंक की वेबसाइट है – https://www.onlinesbi.com अब जब भी आपको एसबीआई की इंटरनेट बैंकिंग का इस्तेमाल करना हो तब इस वेब एड्रेस को ब्राउज़र में टाइप करके ही ओपन करें। ईमेल या मैसेज में प्राप्त लिंक पर क्लिक नहीं करें।

इसी तरह सभी बैंकों ने इंटरनेट बैंकिंग के लिए अपना ऑफिसियल वेबसाइट बनाया है। उस वेबसाइट में जाने के लिए आप URL को पूरा टाइप करके एंटर करें। आपकी सुविधा के लिए हमने सभी बैंकों की ऑफिसियल वेबसाइट का लिंक पिछले पोस्ट में दिया है। आप यहाँ से चेक कर सकते है – भारतीय बैंक की ऑफिसियल वेबसाइट

2. बैंक की ऑफिसियल वेबसाइट की पहचान करें

जब भी आपको नेट बैंकिंग सुविधा में लॉगिन करना होगा, सबसे पहले यह जाँच ले कि वह वेबसाइट बैंक की ऑफिसियल वेबसाइट ही है। क्योंकि इंटरनेट पर कई ऐसे फर्जी वेबसाइट हो सकते है जो आपके बैंक की वेबसाइट से मिलता जुलता हो। अपने बैंक की असली वेबसाइट पता करने के लिए ब्राउज़र में चेक करें की URL में https// है या नहीं।

अब ब्राउज़र में ये चेक करें कि यूआरएल के सामने सिक्योर लॉक का दिखाई दे रहा है या नहीं। इसके अलावा हमने भारतीय बैंक की ऑफिसियल वेबसाइट की लिस्ट दिया है। वहां से भी आप बैंक का असली वेब एड्रेस जाँच सकते हो। इस तरह आपको पहले ही स्योर हो जाना है कि आप जिस वेबसाइट में हो वो आपकी बैंक की ऑफिसियल यानि असली वेबसाइट है।

3. पब्लिक कंप्यूटर पर नेट बैंकिंग में लॉगिन नहीं करें

पब्लिक कंप्यूटर जैसे साइबर कैफ़े में अपने बैंक की इंटरनेट बैंकिंग में लॉगिन करने से बचे। क्योंकि पब्लिक कंप्यूटर में ऐसे कीलॉगर सॉफ्टवेयर हो सकते है जो आपके नेट बैंकिंग username और password को चुरा सकते है। इसके साथ ही पब्लिक कंप्यूटर को कई लोग इस्तेमाल करते है। इसलिए ऐसे सिस्टम पर इंटरनेट बैंकिंग का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।

अगर आपके पास कोई दूसरा विकल्प नहीं और आपको पब्लिक कंप्यूटर का ही इस्तेमाल करना पड़ रहा है तब सबसे पहले ब्राउज़र हिस्ट्री को क्लियर कीजिये। इसके बाद New Incognito Window में ही बैंक की वेबसाइट में लॉगिन करें।

4. Remember ID and Password पर क्लिक न करें

इंटरनेट वेब ब्राउज़र में एक सुविधा रहती है Remember ID and Password का। इस सुविधा को इसलिए दिया जाता है जिससे यूजर को बार – बार अपना आईडी पासवर्ड एंटर करना ना पड़े। लेकिन कभी भी आप इंटरनेट बैंकिंग में लॉगिन करते समय ब्राउज़र द्वारा पूछे जाने पर Remember ID and Password को सेव नहीं करें। चाहे आपका पर्सनल कंप्यूटर हो पब्लिक कंप्यूटर।

अगर आप Remember ID and Password को yes कर देंगे तब ब्राउज़र द्वारा आपके नेट बैंकिंग आईडी को सेव कर लिया जायेगा। उसके बाद जब भी आप लॉगिन करेंगे, ऑटोमैटिक आपकी आईडी पासवर्ड एंटर हो जायेगा। इस कंडीशन में कोई भी आपके सिस्टम के द्वारा आपके नेट बैंकिंग आईडी पासवर्ड को निकाल सकता है।

5. समय – समय पर नेट बैंकिंग का आईडी पासवर्ड बदलते रहे

इंटरनेट बैंकिंग में लॉगिन करने के लिए आपके पास username और password होता है। हमारे इसी आईडी के द्वारा बैंक की नेट बैंकिंग सुविधा हमारा वेरिफिकेशन करती है। इंटरनेट बैंकिंग उपयोग करते है, तब अपना इसी आईडी पासवर्ड को चेंज करते रहना चाहिए। इससे होगा ये कि किसी अन्य के द्वारा आपका username और password को गेस करना मुश्किल हो जाता है।

यह देखा गया है कि बहुत से नेट बैंकिंग यूजर अपने आईडी पासवर्ड को नहीं बदलते। क्योंकि वो ये काम करना भूल जाते है या आईडी पासवर्ड चेंज करना उन्हें परेशानी का काम लगता है। लेकिन नेट बैंकिंग सुविधा का सुरक्षित रूप से उपयोग करना है, तब समय समय पर अपना आईडी पासवर्ड बदलने की आदत डालना चाहिए।

6. अपने कंप्यूटर में ओरिजिनल एंटीवायरस का उपयोग करें

अगर आपके लैपटॉप या डेस्कटॉप है तब उसमें अच्छे कंपनी का ओरिजिनल एंटीवायरस इनस्टॉल करके रखें। कंप्यूटर में ऑनलाइन वेब ब्राउज़िंग करते समय किस वेबसाइट से कौन सी खतरनाक स्पाई सॉफ्टवेयर आपके सिस्टम में आ जाये कहा नहीं जा सकता। इसलिए ऐसे डेंजरस सॉफ्टवेयर हमारे लैपटॉप या डेस्कटॉप में ना आ जाये इसके लिए ओरिजिनल key के साथ एंटीवायरस का उपयोग करें।

आजकल के कई एंटीवायरस सॉफ्टवेयर में सेफ बैंकिंग फीचर्स होते है। इसके द्वारा आप ऑनलाइन ट्रैकिंग को रोक सकते हो। इंटरनेट बैंकिंग का उपयोग करते समय आपको सुरक्षित रखने का काम ये एंटीवायरस कर सकता है। इसलिए सिर्फ और सिर्फ ओरिजिनल एंटीवायरस का उपयोग कीजिये।

7. अपना मोबाइल नंबर एवं ईमेल आईडी को बैंक से लिंक कराएं

आपके बैंक अकाउंट नंबर से आपका मोबाइल नंबर एवं ईमेल आईडी लिंक होना चाहिए। इससे आपके सभी बैंकिंग लेनदेन की जानकारी आपको मैसेज और ईमेल पर मिलता रहेगा। अगर कभी भी कोई असामान्य लेनदेन आपके बैंक अकाउंट से होता है तब आपको फौरन पता चल जायेगा। समय रहते ऐसे फर्जी ट्रांसक्शन का पता लगने पर आप अपने पैसे को बचा पाएंगे।

जब भी आपको ऐसा लगे कि आपके बैंक अकाउंट से असामान्य ट्रांसक्शन हुआ है तब फौरन अपने ब्रांच में संपर्क करके अपना अकाउंट होल्ड कराइये। इसके साथ ही फौरन अपने बैंक की हेल्पलाइन नंबर पर कॉल करके इसकी सुचना दीजिये। इससे बैंक सपोर्ट टीम आपके पैसे को वापस आपके बैंक अकाउंट में जमा करने में मदद कर पायेगा।

8. अपना आईडी पासवर्ड ओटीपी (OTP) किसी को ना बताएं

आजकल बैंक के अधिकारी बनकर फर्जी लोग आपको कॉल करते है। वो आपके बैंक खाता बंद होने का बहाना बनाते है या और कुछ भी बैंकिंग जानकारी देते है। इस बीच बातों बातों में वो आपसे नेट बैंकिंग का आईडी पासवर्ड मांग सकता है। या आपके मोबाइल पर प्राप्त ओटीपी की मांग कर सकता है। अगर आप ऐसे धोखाधड़ी से अनजान है तो उन्हें अपना आईडी पासवर्ड दे देते है और अपने पैसे गँवा देते है।

लेकिन ध्यान रहें कि बैंक भी अपने कस्टमर को फोन कॉल या मैसेज या ईमेल में नेट बैंकिंग का यूजर आईडी ता ओटीपी नहीं मांग सकते है। ये बात हर बैंक बार बार अपने कस्टमर को बोलते रहते है। इसलिए चाहे असली का ही बैंक अधिकारी क्यों ना हो, फोन कॉल या मैसेज में अपनी निजी जानकारी जैसे आईडी पासवर्ड या ओटीपी कभी ना बताएं।

इसे पढ़ें – जीरो बैलेंस अकाउंट कैसे खोले

इंटरनेट बैंकिंग के समय कौन कौन सी सावधानियां रखनी चाहिए, इसकी पूरी जानकारी स्टेप by स्टेप बहुत सरल तरीके से यहाँ बताया गया है। अब कोई भी खाताधारक नेट बैंकिंग का उपयोग करते समय क्या सावधानी बरतनी है ये जान पायेगा। अगर ऑनलाइन बैंकिंग या बैंकिंग सेवाओं से सम्बंधित आपके मन में कोई अन्य सवाल हो तो नीचे कमेंट बॉक्स में पूछ सकते हो। हम बहुत जल्दी आपको रिप्लाई करेंगे।

नेट बैंकिंग यूज़ करते समय बरतने वाली सावधानियां क्या है, इसकी जानकारी सभी खाताधारकों के लिए बहुत उपयोगी है। इसलिए इस जानकारी को उन्हें व्हाट्सएप्प ग्रुप एवं फेसबुक में शेयर जरूर करें। इस वेबसाइट पर नेट बैंकिंग से सम्बंधित सम्पूर्ण जानकारी प्रदान करते है। अगर आप आसान और सुरक्षित बैंकिंग से सम्बंधित जानकारी सबसे पहले पाना चाहते है, तो गूगल सर्च बॉक्स में सर्च कीजिये – bankingguru.in धन्यवाद !

शेयर करें :

हेलो दोस्तों, भारत के लगभग सभी प्रमुख बैंकों में मेरा बैंक अकाउंट है और बैंकिंग सर्विसेज को उपयोग करने का मुझे 10 वर्षों का अनुभव है। इस वेबसाइट पर आपको इंटरनेट बैंकिंग, मोबाइल बैंकिंग और नई बैंकिंग सेवाओं का उपयोग आसान और सुरक्षित रूप से कैसे करना है, इसकी पूरी जानकारी मिलेगा।

Leave a Comment